महृषि दयानंद विश्व विधालय के यमुना होस्टल में छात्रा ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

महृषि दयानंद विश्व विधालय में छात्राओं के आत्महत्या करने के मामले रुक नही रहे हैं, इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं, आज भी यमुना होस्टल में बी फार्मा द्वितीय वर्ष की छात्रा ने फांसी लगा कर आत्म हत्या कर ली। छात्रा रोहतक़ जिले के महम कस्बे की रहने वाली थी और होस्टल में रह कर पढ़ती थी। घटना की सूचना पर पुलिस व एफएसएल की टीम मौके पर पहुंची और परिजनों की मौजूदगी में शव को नीचे उतार कर पोस्टमार्टम के लिए रोहतक पीजीआई भेज दिया गया। कोई सुसाइड नोट भी मौके से नही मिला। फिलहाल आत्महत्या के कारण का खुलासा नही हो पाया। पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।
यमुना होस्टल में ब्रेकफास्ट का समय था,लेकिन 56 नम्बर रूम में रहने वाली बीफार्मा द्वितीय वर्ष की छात्रा गगनदीप ब्रेकफास्ट के लिए नही आई। जाकर देखा तो कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था। काफी खटखटाने के बाद भी दरवाजा नही खुला तो दरवाजा तोड़ कर अंदर देखा तो होश उड़ गए। गगनदीप ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। घटना की सूचना पर होस्टल प्रशासन मौके पर पहुंचा और पुलिस को सूचना दी गई। पीजीआई थाना पुलिस व एफएसएल की टीम मौके पर पहुंची और परिजनों को सूचना दी गई।
पुलिस व एफएसएल की टीम ने परिजनों की मौजुदगी में शव को नीचे उतारा गया। जांच में पुलिस को कोई सुसाइड नोट मौके से नही मिला। जिस कारण से आत्महत्या के कारण का नही पता चल पाया। पुलिस ने परिजनों व होस्टल में रहने वाली अन्य छात्राओं से भी कारण जानने का प्रयास किया। गगनदीप कमरे में अकेली रहती थी, फिलहाल उसके एग्जाम खत्म हो चुके थे। अब सवाल यही है कि आखिर महृषि दयानंद यूनिवर्सिटी के हॉस्टल में ऐसी क्या दिक्कत है कि विद्यार्थी इस तरह के कदम उठाने को मजबूर हो जाते। क्योंकि यहाँ कई घटनाएं हो चुकी हैं। परिवार वालों से छात्रा की परसों बात हुई थी, परिजनों ने भी कारण के बारे में कोई जानकारी नही दी है।

(Visited 12 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!