महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय शोध संस्कृति को उत्कृष्ट बनाने के विशेष कदम उठाएगा।

Watch Like & Subscribe the k9media Youtube channel

महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (एमडीयू) शोध संस्कृति को उत्कृष्ट बनाने के विशेष कदम उठाएगा। शोध परियोजनाओं के फास्ट क्लीरियरेंस को लेकर शोध परियोजना अन्वेषकों/समन्वयकों, अकाउंट और ऑडिट शाखा मध्य बेहतर समन्वय स्थापित करने की दिशा में कार्य करेगा। साथ ही शोध परियोजनाओं के फास्ट क्लीरियरेंस प्रक्रिया की सुगमता के लिए विशेष कार्यशालाओं का आयोजन करेगा। ये बात एमडीयू कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने आज विश्वविद्यालय की शोध परियोजनाओं के प्रमुख अन्वेषकों तथा शोध परियोजनाओं के समन्वयकों की बैठक में कही।
कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने कहा कि भविष्य में शोध परियोजनाएं, शोध कार्यशालाओं तथा संयुक्त शोध कार्यक्रम पर जोर दिया जाएगा। विश्वविद्यालय प्रशासन शोध कार्यों को बढ़ावा देने के शोध परियोजनाओं के संचालन में आने वाली दिक्कतों को भी दूर करने की दिशा में भी कारगर कदम उठाएगा। कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने कहा कि एमडीयू में शोध संस्कृति को प्रोत्साहन देना उनकी प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि शोध परियोजनाओं के फास्ट ट्रैक को लेकर वित्त विभाग के रिसर्च सैल को सुदृढ़ किया जाएगा। कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने शोध परियोजनाओं के प्रमुख अन्वेषकों से परियोजनाओं बारे फीडबैक ली। बैठक में प्रमुख अन्वेषकों की शोध परियोजनाओं की ऑडिट एवं वित्त संबंधित समस्याओं को दूर करने बारे विस्तार से विचार-विमर्श किया गया।
डीन, एकेडमिक एफेयर्स प्रो. ए.के. राजन ने भी बैठक में एमडीयू में शोध कार्यों को बढ़ावा देने के लिए महत्त्वपूर्ण इनपुट्स दिए। ज्वाइंट ऑडिटर विनोद बिश्रोई ने शोध परियोजनाओं की ऑडिट संबंधित महत्त्वपूर्ण जानकारी दी। इस अवसर पर वित्त अधिकारी मुकेश भट्ट समेत विश्वविद्यालय की शोध परियोजनाओं के प्रमुख अन्वेषक उपस्थित रहे। एमडीयू के प्रमुख अन्वेषकों ने बैठक में विश्वविद्यालय में शोध संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए महत्त्वपूर्ण सुझाव दिए।

 


Follow us on facebook
twitter
youtube
dailymotion

(Visited 17 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!