भारत मैं 5जी के लिए बढ़ती मुश्किलें

विश्व के देशो के साथ 5जी टेक्नोलॉजी में कंधे से कंधा मिला कर चल पाने में भारत के लिएमुश्किलें खड़ी होने वाली है | विशेषज्ञों के अनुसार भारत में सिर्फ 20 फीसद से कम नेटवर्क ही फाइबर ऑप्टिक केबल पर चल रहे हैं। 5जी की मूलभूत आवश्यकताओं में से एक मजबूत बैकहॉल है जो फिलहाल भारत में मौजूद नहीं है।अगर भारत में 2020 तक 5जी उपलब्ध हो भी जाता है और इस नेटवर्क को लाने के लिए लिएमुश्किलें खड़ी होने वाली है

 

भारत में 80 फीसद सेल साइट्स माइक्रोवेब बैकहॉल से कनेक्टेड हैं जो 300 Mbps की कैपेसिटी ही उपलब्ध कराते हैं | सैमसंग व् रेअलिअन्स ने मार्च में घोषणा की थी की वे 4जी की सर्विस को बेहतर बनाएंगे एयरटेल और रिलायंस 5जी क लिए तैयार है पर ये 4जी का स्थान नहीं लेंगे| बल्कि 4जी के लिए अलग ढांचा तैयार करना पड़ेगा

(Visited 71 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!