फसलों में आगजनी को प्राकृतिक आपदा घोषित करने की मांग

Watch Like & Subscribe the k9media Youtube channel

नई सब्जी मंडी में आयोजित भाकियू की बैठक में विचार-विमर्श करते हुए यूनियन नेता व किसान

फसलों में आगजनी को प्राकृतिक आपदा घोषित करने की मांग
-भाकियू भाजपा के खिलाफ करेगी चुनाव प्रचार
गोहाना:
भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के नेताओं और किसानों ने सोमवार को सोनीपत रोड स्थित नई सब्जी मंडी में बैठक की। अब तक सरकार द्वारा आगजनी की घटनाओं में जली गेहूं की फसलों पर मुआवजा घोषित नहीं करने पर यूनियन नेताओं ने रोष व्यक्त किया। बैठक में फैसला लिया गया कि भाकियू भाजपा के खिलाफ चुनाव प्रचार करेगी। चुनाव के बाद आंदोलन करके मुआवजा लिया जाएगा। यूनियन ने फसलों में आगजनी को प्राकृतिक आपदा घोषित करने की मांग की।
बैठक की अध्यक्षता यूनियन के कार्यवाहक प्रदेशाध्यक्ष कर्म सिंह मथाना ने की। मुख्य वक्ता वरिष्ठ किसान नेता गुरनाम सिंह रहे। उन्होंने कहा कि आगजनी में प्रदेश में हजारों एकड़ में गेहूं की फसल जल कर राख हो गई थी। आगजनी की घटनाएं विभिन्न कारणों से हुई। उन्होंने कहा कि सरकार फसलों में आगजनी को प्राकृतिक आपदा घोषित करे। किसानों को गेहूं की जली फसलों पर प्रति एकड़ 40 हजार मुआवजा दिया जाए। पशु के मरने पर एक लाख रुपये, खेत में आगजनी से किसी किसान या मजदूर की मौत होने पर उसके पीडि़त परिजनों को 20 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की मांग की। भाकियू के प्रदेश उपाध्यक्ष सत्यवान नरवाल ने कहा कि यूनियन और किसानों ने बीती एक मई को सरकार के पास मांगपत्र भेजा था, जिस पर ध्यान नहीं दिया गया। उन्होंने कहा कि अब भाकियू के पदाधिकारी व सदस्य भाजपा प्रत्याशियों को हराने के लिए लोगों से संपर्क करेंगे। चुनाव के बाद बैठक करके आंदोलन की रूपरेखा तैयार की जाएगी। बैठक में भगत सिंह, रविंद्र काजल, रोहताश बैनिवाल, कर्मबीर, संदीप, सूरजभान, पवन मलिक, श्याम, विजय आदि मौजूद रहे।


Follow us on facebook
twitter
youtube
dailymotion

(Visited 4 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!